.

करदाताओं के e-Filing अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए नई सुविधा शुरू

आयकर विभाग Fishing Email से बचने की जरूरत और password एवं OTP (One Time Password) की सावधानीपूर्वक रक्षा करने और दूसरों के साथ उन्‍हें साझा नहीं करने के बारे में समय-समय पर परामर्श जारी करता रहा है।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि करदाता धोखाधड़ी के किसी भी प्रयास के खिलाफ अपने e-Filing अकाउंट को सुरक्षित रखने में समर्थ साबित हों, आयकर विभाग ने ‘e-Filing Vault’ नामक एक नई सुविधा शुरू की है। इस सुविधा का उपयोग करने के लिए करदाता अपने e-Filing एकाउंट को log-in कर सकते हैं और अपने प्रोफाइल पेज के तहत ‘e-Filing Vault – Higher Security’ का चयन कर सकते हैं।

करदाता इसके बाद अधि‍क सुरक्षा वाले तरीकों के किसी एक या कई विकल्पों के तहत log-in करने का चयन कर सकते हैं। विभि‍न्‍न विकल्‍प ये हैं – OTP सृजित करने के लिए Aadhaar Linkage का उपयोग करना, Net Banking के जरिए Log-in और Digital Signature Certificate (DSC) का उपयोग करके Log-in। ऐसा एक बार पूरा हो जाने के बाद Log-In करने संबंधी किसी भी भावी प्रयास के तहत या तो ‘Aadhaar’ के उपयोग के जरिए OTP की अतिरिक्त जांच की आवश्यकता होगी अथवा करदाताओं को Net Banking के उपयोग के जरिए या DSC के उपयोग के जरिए Log-In करना होगा। इस सुविधा का उपयोग करके करदाता किसी को भी Log-In करने से रोक सकता है, भले ही अतीत में उसने User-ID और Password को साझा क्‍यों न किया हो। Single User ID और Password की तुलना में यह दोहरा कारक अनुमोदन कहीं ज्‍यादा सुरक्षा सुनिश्चित करता है।

इसी तरह, करदाता यह भी चयन कर सकता है कि कैसे अपने Password को Reset किया जा सकता है। करदाता जब भी अधि‍क सुरक्षा वाले तरीकों के किसी एक या कई विकल्पों का उपयोग करके रीसेट पासवर्ड का चयन कर लेगा, तो कोई भी अन्य व्यक्ति करदाता के Password को Reset करने में सक्षम नहीं हो पाएगा, भले ही गोपनीय उत्‍तर अथवा e-filing OTP इत्‍यादि क्‍यों न उसे ज्ञात हो। इस मामले में विभि‍न्‍न विकल्‍प ये हैं – OTP सृजित करने के लिए Aadhaar Linkage का उपयोग करना, Net Banking के जरिए Log-In और Digital Signature Certificate (DSC) का उपयोग करके Log-In।

e-Filing Vault – Higher Security को activate करने के लिए निम्न दिशा निर्दोषों को पढ़ें:-

Download (PDF, 1.04MB)


Source : www.pib.nic.in