.

रियायत प्राप्त जगहों (पेट्रोल पंप, हॉस्पिटल, etc.) पर अब केवल 500 रूपये के नोट ही स्‍वीकार किए जाएंगे

24.11.2016 की अर्द्धरात्रि के बाद से 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट की अदला-बदली नहीं होगी , पहले से दी जा रही अन्‍य रियायतें कुछ निश्चित अतिरिक्‍त संशोधनों और परिवर्तनों के साथ 15 दिसंबर,2016 तक जारी रहेंगी

केंद्रीय सरकार 500 और 1000 रूपये के नोटों की कानूनी वैधता को रद्द करने के संबंधित मुद्दे की समीक्षा करती रही है। इस संबंध में सरकार को कई तरह के सुझाव भी मिल रहे हैं। सभी प्रासंगिक पहलुओं पर विचार के बाद स्‍कीम के कुछ निश्चित परिचालन पहलुओं से संबंधित निम्‍नलिखित निर्णय लिए गए हैं:-

  1. यह देखा गया है कि 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों के विमुद्रीकरण के बाद काउंटरों पर इनकी अदला-बदली करने की प्रवृति में कमी आई है। यह महसूस किया गया है कि लोगों को अपने 500 और 1000 के नोटों को अपने  बैंक खातों  में जमा करने को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। इससे वैसे लोगों को नया बैंक खाता खोलने को प्रोत्‍साहन मिलेगा जिनका अभी तक बैंक में कोई खाता नहीं है। परिणामस्‍वरूप 14 नवंबर, 2016 की अर्द्धरात्रि के बाद 500 और 1000 रूपये के नोट नहीं बदले जाएंगे।
  2. सरकार ने कुछ तय कारोबारों और गतिविधियों में विभिन्‍न तरह की रियायत की अनुमति दी है जिनमें 500 और 1000 रूपये नोटों के जरिए भुगतान किा जा सकता है। यह निर्णय किया गया कि ये सभी रियायतें संशोधनों और परिवर्तनों के साथ 24 नवंबर, 2016 की मध्‍यरात्रि से 15 दिसंबर, 2016 की मध्‍यरात्रि तक जारी रहेगी। इन संशोधनों और परिवर्तनों का विवरण निम्‍नलिखित:-

(क) रियायत दी गई सभी वर्गों के तहत होने वाले  कारोबारों में अब केवल 500 रूपये के नोट ही स्‍वीकार किए जाएंगे,

(ख) केंद्रीय सरकार, राज्‍य सरकार, नगर पालिका और स्‍थानीय इकाई के स्‍कूलों में प्रति छात्र 2000 रूपये तक की फीस के भुगतान में भी पुराने 500 रुपये के नोट किए स्‍वीकार किए जाएंगे,

(ग) केंद्रीय और राज्‍य सरकारों के कॉलेजों में फीस के भुगतान में 500 रुपये के नोट किए स्‍वीकार किए जाएंगे,

(घ) प्रीपेड मोबाइल रिचार्ज के 500 रुपये के टॉप-अप के भुगतान में 500 रुपये के नोट किए स्‍वीकार किए जाएंगे,

(ड़) एक समय में 5000 रुपये की सीमा तक उपभोक्‍ता सहकारी भंडार से खरीद के भुगतान में 500 रुपये के नोट किए स्‍वीकार किए जाएंगे,

(च) जन उपयोगी बिलों के भुगतान को अब पानी और बिजली के मौजूदा और बकाये बिलों के भुगतान तक सीमित कर दिया गया है। यह सुविधा केवल व्‍यक्तिगत और घरेलू भुगतान के लिए ही उपलब्‍ध होगी।

(छ) सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के 2 दिसंबर, 2016 तक टोल प्‍लाजा को टोल फ्री रखने के निर्णय को देखते हुए यह निर्णय किया गया है कि 3 दिसंबर, 2016 से 15 दिसंबर, 2016 तक टोल प्‍लाजा पर 500 रुपये के पुराने नोटों के जरिए भुगतान किया जा सकेगा।

Source: http://pib.nic.in/newsite/PrintRelease.aspx?relid=154275