.

.

  1. Individual Assessee : व्यक्ति (निवासी अथवा अनिवासी (Non-Resident)) अथवा हिंदु अविभाजित परिवार (HUF) अथवा व्यक्तियों के संघ (AOP) अथवा व्यक्तियों की निकाय (Body of Individual) अथवा अन्य किसी कृत्रिम कानूनी व्यक्ति (Artificial Person) की स्थिति में निर्धारण वर्ष 2016-17 के लिए आयकर की दरें निम्न प्रकार हैं :
करयोग्य आय (Taxable Income) कर की दर
रू. 2,50,000 तक शून्य
रू. 2,50,000 से रू. 5,00,000 10 प्रतिशत
रू. 5,00,000 से रू. 10,00,000 20 प्रतिशत
रू. 10,00,000 से अधिक 30 प्रतिशत

 

  1. निवासी वरिष्ठ नागरिक (Senior Citizen) की स्थिति में (जो पिछले वर्ष के दौरान किसी भी समय साठ (60) वर्ष की आयु अथवा उससे अधिक का हो लेकिन पिछले वर्ष के अंतिम दिन पर अस्सी (80) वर्ष की आयु से कम का हो) निर्धारण वर्ष 2016-17 के लिए आयकर की दरें निम्न प्रकार हैं :
करयोग्य आय (Taxable Income) कर की दर
रू. 3,00,000 तक शून्य
रू. 3,00,000 से रू. 5,00,000 10 प्रतिशत
रू. 5,00,000 से रू. 10,00,000 20 प्रतिशत
रू. 10,00,000 से अधिक 30 प्रतिशत

 

  1. Super Senior Citizen : एक निवासी अति वरिष्ठ नागरिक की स्थिति में (जो पिछले वर्ष के दौरान किसी भी समय 80 वर्ष अथवा उससे अधिक की आयु का हो) निर्धारण वर्ष 2016-17 के लिए आयकर की दरें निम्न प्रकार हैं :
करयोग्य आय (Taxable Income) कर की दर
रू. 5,00,000 तक शून्य
रू. 5,00,000 से रू. 10,00,000 20 प्रतिशत
रू. 10,00,000 से अधिक 30 प्रतिशत

 

Note :

a) अधिभार (Surcharge): आयकर की राशि ऐसे कर के 10% की दर पर अधिभार द्वारा बढ़ार्इ जाएगी जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो। हालांकि, अधिभार (Surcharge) सीमांत राहत (marginal relief) के अनुसार ही देय होगा।  (अर्थात जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो एक करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा एक करोड़ की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल राशि से अधिक नही होगी)

b) शिक्षा उपकर (Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 2% प्रतिशत की दर पर आंके गए शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

c) माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर (Secondary and Higher Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 1 % की दर पर आंके गए माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

d) धारा 87A के अंतर्गत छूट : छूट निवासी व्यक्ति के लिए उपलब्ध होती हैं यदि उसकी कुल आय रू. 5,00,000 से अधिक न हो। छूट की राशि आयकर का 100 % अथवा 2,000 जो भी कम हो, होगी

 

  1. साझेदार फर्म (Partnership Firm and LLP)

निर्धारण वर्ष 2014-15 तथा 2015-16 के लिए एक साझेदार फर्म (LLP सहित) 30% की दर से करयोग्य है।

Note :

a) अधिभार (Surcharge): आयकर की राशि ऐसे कर के 10 % की दर पर अधिभार द्वारा बढ़ार्इ जाएगी जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो। हालांकि, अधिभार (Surcharge) सीमांत राहत (marginal relief) के अनुसार ही देय होगा।  (अर्थात जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो एक करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा एक करोड़ की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल राशि से अधिक नही होगी)

b) शिक्षा उपकर (Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 2 % की दर पर आंके गए शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

c) माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर (Secondary and Higher Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 1% की दर पर आंके गए माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

 

  1. स्थानीय प्राधिकारी (Local Authority)

निर्धारण वर्ष 2016-17 के लिए एक स्थानीय प्राधिकारी 30% की दर से करयोग्य है

Note :

a) अधिभार (Surcharge): आयकर की राशि ऐसे कर के 10% की दर पर अधिभार द्वारा बढ़ार्इ जाएगी जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो। हालांकि, अधिभार (Surcharge) सीमांत राहत (marginal relief) के अनुसार ही देय होगा।  (अर्थात जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो एक करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा एक करोड़ की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल राशि से अधिक नही होगी)

b) शिक्षा उपकर (Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 2% की दर पर आंके गए शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

c) माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर (Secondary and Higher Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 1% की दर पर आंके गए माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

 

  1. घरेलू कंपनी (Domestic Company)

निर्धारण वर्ष 2016-17 के लिए एक घरेलू कंपनी 30 प्रतिशत की दर से करयोग्य है

Note :

a) अधिभार (Surcharge): आयकर की राशि ऐसे कर के 5% की दर पर अधिभार द्वारा बढ़ार्इ जाएगी जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो लेकिन दस करोड़ से अधिक न हो तथा ऐसे कर के 10% की दर पर जहां कुल आय दस करोड़ से अधिक हो। हालांकि, अधिभार सीमांत राहत के अनुसार होगा जो निम्नानुसार होगा।

(i) जहां आय एक करोड़ रूपए से अधिक लेकिन दस करोड़ से कम हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो एक करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा एक करोड़ की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल आय से अधिक नही होगी।

(ii) जहां आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो एक करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा एक करोड़ की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल आय से अधिक नही होगी।

b) शिक्षा उपकर (Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 2% की दर पर आंके गए शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

c) माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर (Secondary and Higher Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के एक प्रतिशत की दर पर आंके गए माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

 

  1. विदेशी कंपनी (Foreign Company)
आय की प्रकृति (Nature of Income) कर की दरें
31 मार्च 1961 के पश्चात् लेकिन 1 अप्रैल, 1976 से पूर्व भारतीय कंपनी के साथ किए गए समझौते के अनुसार सरकार अथवा भारतीय कंपनी द्वारा प्राप्त रॉयल्टी अथवा 29 फरवरी, 1964 के पश्चात् किए गए समझौते के अनुसार तकनीकी सेवा प्रतिपादन के लिए शुल्क तथा जहां ऐसा समझौता किसी भी स्थिति में, केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित किया गया हो 50 %
अन्य कोर्इ आय 40 %

Note:

a) अधिभार (Surcharge): आयकर की राशि ऐसे कर के 2 % की दर पर अधिभार द्वारा बढ़ार्इ जाएगी जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो लेकिन दस करोड़ से अधिक न हो तथा ऐसे कर के 5 % की दर पर जहां कुल आय दस करोड़ से अधिक हो। हालांकि, अधिभार सीमांत राहत के अनुसार होगा जो निम्नानुसार होगा:

(i) जहां आय एक करोड़ रूपए से अधिक लेकिन दस करोड़ रूपए से अधिक न हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो एक करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा एक करोड़ की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल आय से अधिक नही होगी।

(ii) जहां आय दस करोड़ रूपए से अधिक हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो दस  करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा दस करोड़ रूपए की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल आय से अधिक नही होगी।

b) शिक्षा उपकर (Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 2% की दर पर आंके गए शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

c) माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर (Secondary and Higher Education Cess) : आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 1% की दर पर आंके गए माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

 

  1. सहकारी संस्था (Co-operative Society)
करयोग्य आय (Taxable Income) कुल दर
रू. 10,000 तक 10 प्रतिशत
रू. 10,000 से रू. 20,000 20 प्रतिशत
रू. 20,000 से अधिक 30 प्रतिशत

Note :

a) अधिभार (Surcharge): आयकर की राशि ऐसे कर के 10% की दर पर अधिभार द्वारा बढ़ार्इ जाएगी जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो। हालांकि, अधिभार (Surcharge) सीमांत राहत (marginal relief) के अनुसार ही देय होगा। (जहां कुल आय एक करोड़ रूपए से अधिक हो वहां आयकर तथा अधिभार के रूप में देययोग्य कुल राशि आय, जो एक करोड़ रूपए से अधिक हो, की राशि के अलावा एक करोड़ की कुल आय पर आयकर के रूप में देययोग्य कुल राशि से अधिक नही होगी)

b) शिक्षा उपकर (Education Cess) : आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 2% की दर पर आंके गए शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

c) माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर (Secondary and Higher Education Cess): आयकर तथा अधिभार की राशि ऐसे आयकर तथा अधिभार के 1% की दर पर आंके गए माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा उपकर द्वारा आगामी वृद्धि की जाएगी।

# निर्धारण वर्ष 2016-17 के लिए आयकर की दरें